“मंदिर व उनके स्थापत्य”

मंदिर निर्माण की कला सदियों पुरानी है। वैदिक काल से ही मंदिरों के वर्णन मिलते हैं।देवालय, कोविल, देओल, देवस्थानम्, प्रसाद आदि अनेक नामों से विदित मंदिर अनेक तरह से निर्मित किये जाते हैं। मंदिर निर्माण के पुर्ववर्ती 3 प्रकार...

read more

“मंदिर व उनके स्थापत्य”

मंदिर निर्माण की कला सदियों पुरानी है। वैदिक काल से ही मंदिरों के वर्णन मिलते हैं।देवालय, कोविल, देओल, देवस्थानम्, प्रसाद आदि अनेक नामों से विदित मंदिर अनेक तरह से निर्मित किये जाते हैं। मंदिर निर्माण के पुर्ववर्ती 3 प्रकार...

read more